इक ख्वाब आखो से

इक चुभन सी है आखों में ,
कुछ तो गिरा होगा
इक कंकर आखो में
इक ख्वाब आखो से

– DT

Leave a Reply

Your email address will not be published.