nira chand

इतना आसान नहीं लहू रोना
दिल है जो धड़कने का सबब जानता है
क़त्ल हो जाता जमानो पहले
ये निरा चाँद मगर कब मानता है

H.P.RAHI

Leave a Reply

Your email address will not be published.