nira chand

इतना आसान नहीं लहू रोना
दिल है जो धड़कने का सबब जानता है
क़त्ल हो जाता जमानो पहले
ये निरा चाँद मगर कब मानता है

H.P.RAHI

furqate-e-yaar ( Shayri )

नज़्म कुर्बान कर दी , बस एक रात के लिए ,
नींद खा जाती , कागज़ पे जिंदा उतर आती जो ,
नज़्म का क्या है , कल फिर रूबरू हो आएगी ,
फुरकते यार है , नींद कहा रोज आएगी ।

H.P.RAHI

dhup ke afsha

चाँद का वज़न कुछ बढ़ा हुआ सा मालूम होता है ,
आज फिजा में तपिश कुछ ज्यादा थी ,
दिन भर धुप के अफशाओ की खुराक ज्यादा हो गयी होगी|H.P.RAHI

अफशा – पकवान |

khajana

उडी है धुप , उस गुफा की तरफ , जिसका नाम दिल पड़ा था ,
तेरे नाम से जब भी सहर खोलता हूँ मैं ,
कुछ दिल के खजाने मैं कैद करता हूँ मैं |H.P.RAHI

fakiran

रात में ओढ़े चांदनी , दिन में सूरज चन्दन ,
दाना दाना पेट का जशन , और तिनका नशेमन ,
मौला , करम पे तेरे एक फकीरन , नसीबन |H.P.RAHI

salaam jaipur 2

Wrote after coming back to jaipur from kashmir trip in summer’11

हम पहुचे थे बड़ी जिद के साथ वादी ए कश्मीर ,
बहोत खुबसूरत है माना हमने, वादी ए कश्मीर ,
मगर हमें तो ज़िन्दगी की नमी इन लू के थपेड़ो में ही वापस मिली |H.P.RAHI