aag

जलाओ तुम भी कुछ इबारतें
हम भी कुछ पन्ने जला ही देते है इस बेतुकी किताब के
जिसे लिख के गए थे कुछ मतवाले लोग
देश चलाने का ताना बुना था
जुर्रत की थी हमें समझाने की के कौन राह चलनी है
आओ बता दे खुल के
हमें मंज़ूर नहीं ये जो तुम्हारी जुर्रत थी
नफरतों के बीज
कोई आज ही तो किसी ने बोए नहीं है
इस कृषि प्रधान देश को
ये फसल तो अभी कई सदियों तक काटनी है
तुम क्या फंदे से झूल जाते हो सिर्फ भूख से मजबूर होकर
तुम हमसे सीखो के नफरत की आग से पेट कैसे भरता है
नींद भी गजब की आती है

H.P.RAHI

Leave a Reply

Your email address will not be published.

4 × 1 =