ek karaar ki jid pe ( Ghazal )

मुझे खौफ है , किसी दिन , मेरी दास्ता तक न होगी ,
निकलेगा चाँद तब भी , एक करार की जिद पे |

कब से थी नज़र को , सदियों की बदनसीबी ,
फिर जला आशियाना , मेरे ऐतबार की हद पे |

रही खुदाई परेशां , एक सवाल की अरज से ,
मैं गुज़रा कई सहरा , एक जवाब की तलब पे |

कातिल का नाम कैसे , निकले मेरी जुबा से ,
ता उम्र बस गया वोह , आवाज़ की लरज़ पे |

H.P.RAHI

Leave a Reply

Your email address will not be published.