Hum hi hum na rahe ( Shayri )

हाय उल्फत ए मुसीबत, जब भी पड़ी , भारी पड़ी ,
तुम तो आखिर तुम ही थे , हम ही हम न रहे | H.P.RAHI

Leave a Reply

Your email address will not be published.