intezaar ( Shayri )

हम रात जागते रह गए , हम राह तकते रह गए ,
शायद वोह मोड़ मुड गए होंगे , या हम ही किसी की मंजिल न थे | H.P.RAHI

2 thoughts on “intezaar ( Shayri )”

Leave a Reply

Your email address will not be published.