jafa ( Shayri )

जफा की राह में हम तो वफाओ से गए ,
दिलजलो से मिल गए और दिल जला के आ गए | H.P.RAHI

1 thought on “jafa ( Shayri )”

Leave a Reply

Your email address will not be published.