jakhm jab ashko ko pi leta hai ( Ghazal )

जख्म जब अश्को को पी लेता है ,
जिंदगी को तमाम जी लेता है ।

वक़्त हो जाता है बदनाम खुद ही ,
बिजलिया जब कलियों पे गिरा देता है ।

तनहा तन्हाईयो में एक आस फूटी जाती है ,
जब दरख्तों पे कोई नाम मेरा लिखता है ।

उनसे न कीजियेगा तुम इर्ष्या ,
कभी साकी जहर भी पी जाता है ।

सुबह होने को पल में गिनता हूँ ,
नींद में कोई आवाज़ दे के जाता है ।

दिल से मिलता नहीं किसी से मैं ,
इक लुटे घर में ऐसे क्यों कोई आ जाता है ।

नीलाम कोई क्या होगा किसी के लिए ,
ये “राही” तो हर मंजिल पे बिका जाता है ।

H.P.RAHI

Leave a Reply

Your email address will not be published.