khwahishe ( shayri )

कभी जीते थे मुफलिसी में ,
अब भी जीते है मुफलिसों से ,
हाये , हजारो ख्वाहिशे ऐसी | H.P.RAHI

मुफलिसी – गरीबी |

Leave a Reply

Your email address will not be published.