mahatva

तिनके का सहारा क्या होता है , आज मुझे मालूम हुआ ,
शैतानो की बस्ती में मुझे भा गया तेरा इंसान होना |H.P.RAHI

1 thought on “mahatva”

Leave a Reply

Your email address will not be published.