main kalakar

उस सूखे कुए में मुझे चाँद टुकडो में पड़ा मिला ,
खुदखुशी करने चला था , किरचे बिखरी पड़ी थी हर ओर ,
कुछ बुझी सी थी , कुछ में अभी थोड़ी रोशनी बाकि थी ,
पूनम का होगा जब कूदा होगा , घट के चौथे का नज़र आता है ,
मैंने अपने कैनवास पर उस रात एक सूरज भी उगाया था ,
जो सुबह होते होते शाम हो गया ,
सिर्फ पीछे छुटे झुलसे कुछ निशान ,
मेरी जमा पूंजी , यह झुलसे उम्रे निशान ,
मैं कलाकार , मेरे साथ बस एक चौथे का चाँद ।

H.P.RAHI

3 thoughts on “main kalakar”

Leave a Reply

Your email address will not be published.