Mehfooz ( Shayri )

कुछ इस तरह बह गए हम आखो से खू बनकर ,
तेरे तसव्वुर में रहते भी तो क्या महफूज़ होते ? H.P.RAHI

Leave a Reply

Your email address will not be published.