nazar ( shayri )

उठी वोह नज़र के बहोत इब्तेदा से यु ,
अशआर बने ग़ज़ल और ग़ज़ल किताब हुयी |H.P.RAHI

Leave a Reply

Your email address will not be published.