rindagi ( Shayri )

कभी शायद यु भी होता
इस रिंदगी का कुछ सिला होता
मैं मरता मगर मर के ही सही
मेरे नाम पे कोई मयकदा होता |

H.P.RAHI

Leave a Reply

Your email address will not be published.