savan ( shayri )

याद आती है वोह आग बहोत , जिसे बुझे हुए ज़माने हो गए ,
के कभी सावन बीत जाया करता था हर बरस , और अंगारे फिर भड़क उठते थे | H.P.RAHI

Leave a Reply

Your email address will not be published.