woh nadi kuch yu bahi ( Shayri )

रात की खामोशियों को सुनना हमको आ गया ,
वोह नदी कुछ यु बही कि सागर ही मिलने आ गया | H.P.RAHI

Leave a Reply

Your email address will not be published.